Loading...
पूज्य आचार्य बालकृष्ण जी ने इस विडियो में धतुरा के प्रयोग के बारे में बताये हैं |
अस्थमा के रोगियों के लिए धतूरे का प्रयोग रामबाण हैं इसके लिए बराबर मात्रा में धतूरे की पत्तियों व फल को सुखाकर कूट ले फिर फिर उस मिश्रण को मिटटी की हण्डिया मेंभरकर कपड़े से हण्डिया के मुंह को बंदकर उपर से मिटटी लगाये उपले कोयले या लकड़ी के अंगारे पर इस पात्र को रखे जब पतियाँ और फल जलकर भस्म बन जाये तो उसेउतार कर रख ले फिर इसकी आधा ग्राम तक की मात्रा को सुबह शाम शहद के साथ नियमित रूप से चटाए इससे अस्थमा व कफ रोगों में लाभ मिलेगा जिनको अस्थमा का दौरापड़ा हो उस समय पर छाया में सुखाये धतूरे के पत्तो को चिलम में तम्बाकू की तरह से भरकर पिए इससे अस्थमा के रोगियों को तुरंत राहत मिलेगी

Visit Us

Website:
https://www.http://patanjaliayurved.org
http://patanjaliayurved.net        
http://www.divyayoga.com

Facebook:
https://www.facebook.com/AcharyaBalkrishanJi
https://www.facebook.com/PatanjaliAyurved 

Twitter :
https://twitter.com/Ach_Balkrishna

YouTube :
https://www.youtube.com/user/acharyabalkrisha

Google +
https://plus.google.com/u/0/+AcharyaBalkrishan 

Comments

Leave a Reply